Business

‘कार्बन न्यूट्रल’ होने की ओर बढ़ रहा लद्दाख, सुदूर गांवों तक मिलेगी स्वच्छ ऊर्जा

Carbon Neutral Ladakh-Bihar Aaptak

ऊर्जा मंत्रालय के तहत एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (सीईएसएल) ने लद्दाख को स्वच्छ और हरा बनाने के लिए प्रशासन के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। इस समझौते के तहत केंद्र शासित प्रदेश, लद्दाख में विभिन्न स्वच्छ ऊर्जा और ऊर्जा दक्षता के कार्यक्रम लागू किए जाएंगे। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 74वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से कहा था कि केंद्र शासित प्रदेश, लद्दाख को ‘कार्बन न्यूट्रल’ क्षेत्र बनाने की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। इसी क्रम में ऊर्जा मंत्रालय ने लद्दाख प्रशासन के साथ काम करने का निश्चय किया है।

लद्दाख के जांस्कर घाटी क्षेत्र में एक पायलट प्रोजेक्ट
कार्बन न्यूट्रल का तात्पर्य वातावरण में कार्बन उत्सर्जन और उसके अवशोषित होने के बीच संतुलन स्थापित करने से है। यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि ग्रीनहाउस गैस या कार्बन उत्सर्जन जलवायु पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है। लद्दाख के जांस्कर घाटी क्षेत्र में एक पायलट प्रोजेक्ट के साथ शुरुआत करते हुए, सीईएसएल, सोलर मिनी और माइक्रो ग्रिड समाधान, ऊर्जा कुशल प्रकाश व्यवस्था, ऊर्जा भंडारण-आधारित समाधान, एनर्जी एफिशिएन्ट कुकिंग स्टोव और इलेक्ट्रिक मोबिलिटी सॉल्युशंस पर ध्यान केंद्रित करेगी। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने कहा कि लद्दाख के लिए ऊर्जा पर पहुंच सबसे महत्वपूर्ण है। लद्दाख को स्थायी समाधान की आवश्यकता है, जैसे कि विकेन्द्रीकृत ऊर्जा एफिशिएन्ट समाधान, जिन्हें लद्दाख के कठिन इलाकों में भी लागू किया जा सके।

लद्दाख हमारे देश के लिए प्रकृति के उपहारों में से एक
कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड की एमडी और सीईओ महुआ आचार्य ने कहा कि लद्दाख हमारे देश के लिए प्रकृति के उपहारों में से एक है और इसके पारिस्थितिकी पर्यावरण को संरक्षित करना बहुत महत्वपूर्ण है। केंद्र शासित प्रदेश में कार्बन युक्त ईंधन के उपयोग से पर्यावरण में भारी गिरावट आ रही है। इस समझौता के साथ, सीईएसएल और लद्दाख प्रशासन नवीकरणीय, ऊर्जा दक्षता और इलेक्ट्रिक मोबिलिटी परियोजनाओं को लागू करेंगे, जो लद्दाख के पर्यावरण को बचाने में एक मील का पत्थर साबित होंगे। सीईएसएल, लद्दाख के बहुत ठंडे तापमान के लिए घरेलू उपकरणों, इलेक्ट्रिक हीटिंग, कुकिंग, पंप सेट के रूप में स्वच्छ समाधान लेकर आएगा। उम्मीद है, सीईएसएल, जीवाश्म ईंधन को खत्म कर, लद्दाख के कार्बन शून्य लक्ष्य को पाने में सक्षम होगा। साथ ही क्षेत्र के सबसे दूर के गांवों तक स्वच्छ ऊर्जा प्रदान कर सकेगा, जिससे सरकारी खजाने को ईंधन और उसके परिवहन पर होने वाले बड़े खर्च की बचत होगी।

यह एक स्वागतयोग्य कदम है : जामयांग सेरिंग नामग्याल
लद्दाख से सांसद जामयांग सेरिंग नामग्याल ने कहा कि बिजली, परिवहन और खाना पकाने में स्वच्छ ऊर्जा आधारित समाधान, हमारे कार्बन फुटप्रिंट को तो कम करेंगे ही साथ में इससे केंद्र शासित प्रदेश में स्वच्छ ऊर्जा के विकल्पों को भी बढ़ावा मिलेगा। सीईएसएल के साथ सहयोग करना केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के लिए एक स्वागत योग्य और बहुत जरूरी कदम है।

अब यहाँ इलेक्ट्रॉनिक वाहनों पर होगा जोर
सीईएसएल, इलेक्ट्रॉनिक वाहन (ईवी) चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर पर ध्यान केंद्रित करते हुए लद्दाख के लिए ईवी इकोसिस्टम का निर्माण करेगा, जो बिजली के नवीकरणीय स्रोतों से चलेंगे। सीईएसएल ऊंचाई पर चलाने के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों का परीक्षण भी करेगा। सीईएसएल की सभी परियोजनाओं की तरह, यह कार्यक्रम भी कार्बन क्रेडिट का उपयोग करते हुए नवोन्मेषी (इनोवेटिव) व्यवसाय मॉडल पर आधारित होगा। केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख का प्रशासन पायलट सहित अन्य परियोजनाओं में सीईएसएल का निवेश में सहयोग करेगा, और कन्वर्जेंस के विभिन्न स्वच्छ ऊर्जा और स्थिरता कार्यक्रमों के व्यावसायिक विकास में भी सहायता करेगा। जांस्कर क्षेत्र में इस कार्यक्रम के परिणामों के आधार पर सीईएसएल को अन्य क्षेत्र सौपें जाएंगे।कारगिल/लेह और लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद, स्वच्छ ऊर्जा परियोजनाओं के लिए संबंधित परिषद क्षेत्रों में जमीन देंगी।

क्या है सीईएसएल?
Convergence Energy Services Limited (Convergence), एक नई ऊर्जा कंपनी है, जो स्वच्छ, सस्ती और विश्वसनीय ऊर्जा प्रदान करने पर काम करती है। यह कंपनी, एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) की 100% स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। सीईएसएल उन ऊर्जा समाधानों पर ध्यान देती है, जो नवीकरणीय ऊर्जा, विद्युत गतिशीलता और जलवायु परिवर्तन के समाधान के रूप में काम करते हैं।

Related posts

ईएमआई के लिए बैंक नहीं बना सकेंगे दबाव, अगले तीन महीने तक भरने का टेंशन नहीं

News Desk

देश की अर्थव्यवस्था गिरेगी : कोरोना वायरस से 21 लाख करोड़ रुपए के नुकसान की आशंका

News Desk

कोरोना : ऑफिस नहीं जाने पर भी मिलेगी पूरी सैलरी, मंत्रालय ने दिया निर्देश

News Desk

Leave a Comment